ERIC JB VON WETTBERG, पीएचडी | धूम्रपान-मुक्त दुनिया फाउंडेशन

eric jb von wettberg, पीएचडी

ERIC JB VON WETTBERG, पीएचडी

गंड संबद्ध, सहायक प्रोफेसर, पादप एवं मृदा विज्ञान विभाग, वर्मोंट विश्वविद्यालय

डॉ Eric JB von Wettberg वरमॉन्ट यूनिवर्सिटी के पादप एवं मृदा विज्ञान विभाग में सहायक प्रोफ़ेसर हैं। उनका शोध कार्यक्रम नस्ली फसलों के जंगली संबंधियों, जिनमें प्रतिकूल स्थितियों से उबरने और तनाव झेलने की बेहतर क्षमता होती है, की विविधता का लाभ उठाने के एक साधन के रूप में फसल गृहीकरण को समझने पर केंद्रित है। उन्होंने 2007 में ब्राउन यूनिवर्सिटी से पारिस्थितिकी एवं विकासीय जीवविज्ञान में पीएचडी हासिल की थी और वे 2007 से 2009 तक कैलीफ़ोर्निया यूनिवर्सिटी, डेविस में एनआईएच नेशनल रिसर्च सर्विस अवार्ड पोस्टडॉक थे। क्रमविकास, आनुवंशिकी, पारिस्थितिकी, और कृषि-पारिस्थितिकी में व्यापक प्रशिक्षण प्राप्त डॉ von Wettberg क्षेत्र, हरितगृह कॉमन गार्डन, और प्रयोगशाला पद्धतियों के संयोजन को काम में लेते हैं।

कई फसलें, जैसे चना और मसूर जैसी अन्न फलियों ने, मानवीय कृषि एवं चयन के फलस्वरूप अपनी आनुवंशिक विविधता खो दी है। आनुवंशिक विविधता के अभाव के कारण इन फसलों की जलवायु परिवर्तन के प्रभावों, जैसे सूखा और रोग, को झेलने की क्षमता घट जाती है। डॉ von Wettberg और उनका शोध समूह खेती करके उगाए जाने वाले चने की आनुवंशिक विविधता बहाल करने के लिए, और फूल आने के समय एवं सूखा झेलने की क्षमता के आनुवंशिक आधार को बेहतर ढंग से समझने के लिए, चने के जंगली संबंधियों के एक नए संकलन का उपयोग कर रहे हैं। फसल की आनुवंशिक विविधता में बदलाव करने के साथ-साथ, गृहीकरण (डोमेस्टिकेशन) ने संभवतः गृहीकरण के केंद्रों में समुदायों की जैव-विविधता पर दूरगामी दुष्प्रभाव डाले हैं। गृहीकरण के केंद्रों, जहां लंबे समय तक मानवीय कृषि गतिविधियां और “प्राकृतिक” प्रणालियों में संशोधन हुए हैं, में रहने वाले समुदायों में इस बात की अधिक छानबीन नहीं हुई है कि किस प्रकार पौधों में गृहीकरण के कारण होने वाले बदलावों ने भूमि से ऊपर और नीचे के पादप समुदायों को बदल डाला है। राइज़ोबिया और मायकोरिज़ा जैसे सहजीवी सूक्ष्मजीवों से लाभ उठाने से कृषि प्रणालियों के स्थायित्व में काफी सुधार आ सकता है। साथ ही, फसलों के जंगली संबंधियों और उनकी प्रणालियों का संरक्षण करना, कृषि के संरक्षण के लिए उपलब्ध अनुकूलनशील विविधता के सबसे बड़े भंडार को बचाए रखने के लिए आवश्यक है।

शोध और/या रचनात्मक कार्य

  • यूएसएआईडी जलवायु सहनक्षम चने के लिए फ़ीड द फ़्यूचर नवाचार प्रयोगशाला
  • चने में नाइट्रोजन स्थिरीकरण के लिए गृहीकरण के प्रभाव का निगमन
  • वरमॉन्ट की सब्जी एवं चारा फलियों की जड़ों का निःस्रावण
वर्डप्रेस ऐप्लायंस - संचालक टर्नकी लिनक्स

Powered by