प्रोफ़ेसर Umezuruike Linus Opara, पीएचडी, सीईएनजी, सीएफएस - धूम्रपान-मुक्त दुनिया फाउंडेशन

प्रोफेसर Umezuruike Linus Opara, पीएचडी, सीईएनजी, सीएफएस

प्रोफेसर Umezuruike Linus Opara, पीएचडी, सीईएनजी, सीएफएस

प्रतिष्ठित प्रोफ़ेसर और कटाई-पश्चात प्रौद्योगिकी में डीएसटी-एनआरएफ दक्षिण अफ्रीकी शोध अध्यक्ष; आगामी अध्यक्ष, अंतरराष्ट्रीय कृषि एवं जैवप्रणाली इंजीनियरिंग आयोग; संस्थापक अध्यक्ष, अखिल अफ्रीकी कृषि इंजीनियरिंग सोसायटी; संस्थापक प्रधान संपादक, कटाई-पश्चात प्रौद्योगिकी एवं नवाचार का अंतरराष्ट्रीय शोधपत्रिका; सह-संचालन संपादक, एशिया, अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में कृषि मशीनीकरण।

प्रोफ़ेसर Linus Opara पामर्स्टन नॉर्थ, न्यूज़ीलैंड की मैसी यूनिवर्सिटी में सेंटर फ़ॉर पोस्टहार्वेस्ट एंड रेफ़्रिजरेशन रिसर्च की प्रबंधन समिति के संस्थापक सदस्य हैं। वहां वे इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी के संस्थापक कार्यक्रम निदेशक, और पोस्टहार्वेस्ट इंजीनियरिंग में वरिष्ठ व्याख्याता के रूप में भी सेवाएं देते हैं। पूर्व में, उन्होंने मैसी यूनिवर्सिटी में पूर्ववर्ती वेलिंगटन पॉलिटेक्निक के विलय के दौरान उसके इंजीनियरिंग टेक्नोलॉजी के शोध कार्यक्रमों के शोध कार्यक्रमों के बदलाव का नेतृत्व किया था।

 

Opara एग्रिकल्चरल एक्सपेरिमेंट स्टेशन (एईएस) के निदेशक और सुल्तान क़बूस यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफ़ेसर भी हैं। इस पद पर रहते हुए, उन्होंने कटाई-पश्चात प्रौद्योगिकी पर एक नया अकादमिक कार्यक्रम और शोध प्रयोगशाला स्थापित किए, और एईएस को एक ऐसे राष्ट्रीय केंद्र में बदल दिया जो विस्तार सेवाएं देता है और मूल्यवर्धित खाद्य उत्पाद विकसित करता है।

 

इसके अतिरिक्त, Opara संयुक्त राष्ट्र संघ के खाद्य एवं कृषि संगठन के लिए कटाई-पश्चात प्रौद्योगिकी के आगंतुक विशेषज्ञ भी हैं। इस भूमिका में, उन्होंने खाद्य सुरक्षा और कटाई-पश्चात खाद्य हानियों के संबंध में नीति रचना के लिए सलाह दी है। उन्होंने खाद्य-वाहित रोगों और संबंधित मौतों के कारण उत्पन्न वैश्विक संकट की प्रतिक्रिया में “फ़ूड ट्रेसेबिलिटी फ़्रॉम फ़ील्ड टू प्लेट” नामक एक अत्यधिक-उद्धृत लेख भी प्रकाशित किया है।

 

Opara ने दुनिया भर में पोस्टहर्स्ट मैनेजमेंट तकनीकों पर प्रशिक्षण कार्यक्रमों को विकसित और कार्यान्वित किया है। उन्होंने स्टैलेबोश यूनिवर्सिटी - जो नवाचार और मानव क्षमता वर्धन की एक बहुविषयक एवं अंतरविषयक अंतरराष्ट्रीय शोध संस्था है - में कटाई-पश्चात प्रौद्योगिकी का दक्षिण अफ़्रीकी प्रोफ़ेसर पद भी स्थापित किया। Opara ने अफ़्रीका के कृषि शोध संगठनों और यूनिवर्सिटीज़ के साथ मानव क्षमता विकास पर साझेदारियों का पोषण किया है, और संपूर्ण महाद्वीप के देशों में शोध कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया है।

 

नौ वर्ष से भी कम समय में, Opara ने 13 अफ़्रीकी देशों के 50 से अधिक पोस्टग्रेजुएट विद्यार्थियों को प्रशिक्षित किया है और उन्हें परामर्श दिया है। इस दौरान, उन्होंने दक्षिण अफ़्रीका के उभरते हुए अनार फल क्षेत्र के सहयोग के लिए एक नए शोध कार्यक्रम को शुरू करके उसका नेतृत्व भी किया, जिसने दक्षिण अफ़्रीकी अर्थव्यवस्था में $1.2 करोड़ का प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष योगदान दिया है। उन्हें अनार के लिए कटाई-पश्चात प्रौद्योगिकी के एक अग्रणी वैश्विक शोधकर्ता के रूप में मान्यता मिली हुई है। 

 

Opara ने 200 से अधिक समकक्ष-समीक्षित लेख एवं पुस्तक अध्याय प्रकाशित किए हैं, जो मुख्य रूप से कृषि प्रौद्योगिकी और खाद्य विज्ञान के क्षेत्र के हैं। फलस्वरूप, उन्हें हाल ही में 2019 वेब ऑफ़ साइंस अत्यधिक उद्धृत शोधकर्ता सूची में शामिल किया गया था। Opara को अफ़्रीका के कृषि क्षेत्र में क्षमता वर्धन के लिए गठित क्षेत्रीय विश्वविद्यालयों के मंच द्वारा इम्पैक्ट रिसर्च एंड साइंस इन अफ़्रीका पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया है। और अंत में, उन्हें लाइफ़ एंड अर्थ साइंस के लिए अफ़्रीकन यूनियन क्वामे नक्रुमाह कॉन्टिनेन्टल पुरस्कार मिला है।

 

  • पीएचडी, कृषि इंजीनियरिंग, मैसी यूनिवर्सिटी, न्यूज़ीलैंड
  • एमइंजी. कृषि इंजीनियरिंग, नाइजीरिया यूनिवर्सिटी, एनसुका
  • बीइंजी. कृषि इंजीनियरिंग, नाइजीरिया यूनिवर्सिटी, एनसुका
वर्डप्रेस ऐप्लायंस - संचालक टर्नकी लिनक्स

Powered by