आंकड़ों के पीछे – जापान में धूम्रपान - धूम्रपान-मुक्त दुनिया फाउंडेशन

आंकड़ों के पीछे – जापान में धूम्रपान

जापानी सिगरेट की मात्रा में अभूतपूर्व गिरावट

पिछले हफ़्ते, Japan Tobacco Inc. ने 2018 के पूरे वर्ष के प्रचालन परिणाम पेश किए। डेटा से पता चलता है कि घरेलू सिगरेट उद्योग की मात्रा अभूतपूर्व गति से घट रही है – 2018 में 12% से अधिक और पिछले दो वर्षों में लगभग 24%. हो क्या रहा है?

गर्म किया हुआ तम्बाकू उत्पाद की बिक्री जापान की घरेलू सिगरेट खपत में दो-अंकीय वार्षिक प्रतिशत की गिरावट ला रही है (चार्ट 1)। त्रैमासिक खेप मात्राओं में भारी उतार-चढ़ाव है, पर रुझान साफ है। बदलाव की गति अभूतपूर्व है।

चार्ट 1. जापान में घरेलू सिगरेट उद्योग की मात्रा

स्रोत: यह चार्ट कंपनी की रिपोर्टों से प्राप्त आंकड़ों पर आधारित है। Japan Tobacco Inc. ने पेश की मासिक घरेलू सिगरेट बिक्री की मात्रा और बाज़ार में अंश। Japan Tobacco Inc., Philip Morris Internationalऔर ब्रिटिश अमेरिकन टोबैको ने गर्म किए हुए तम्बाकू की मात्रा पेश की और आंकड़े साझा किए। मात्राएं इन-मार्केट शिपमेंट के आधार पर हैं।

हमारा मानना है कि मात्रा के आंकड़े मुख्य रूप से एक प्रतिस्थापी प्रभाव दर्शाते हैं। दहनशील सिगरेट स्टिक की मात्रा में आई गिरावट अधिकांशतः गर्म की हुईं तम्बाकू स्टिक की मात्रा में वृद्धि से बराबर हो गई है। ऊपर उल्लिखित तीन कंपनियों की रिपोर्टों के आधार पर, स्टिक (सिगरेट और गर्म किया हुआ तम्बाकू) की कुल संख्या 2015 में लगभग 183 अरब, 2016 में लगभग 180 अरब, 2017 में लगभग 171 अरब, और 2018 में लगभग 168 अरब थी। थोड़े समय के उतार-चढ़ाव मूल रुझान को छिपा सकते हैं। उदाहरण के लिए,सितम्बर 2018 में अक्टूबर की कर वृद्धि से पहले ट्रेड इन्वेंटरी लोडिंग के कारण सिगरेट शिपमेंट की मात्रा में वर्ष-दर-वर्ष आधार पर 20% से भी अधिक की वृद्धि हुई, जो चौथी तिमाही में जाकर ठंडी पड़ गई। तीसरी और चौथी तिमाहियों के औसत (जो चार्ट 1 में हरी रेखाओं से दिखाए गए हैं) इस अवधि के दौरान सिगरेट और गर्म किए हुए तम्बाकू में अपेक्षाकृत स्थिरता दर्शाते हैं।

ये परिणाम पारंपरिक तम्बाकू नियंत्रण उपायों की तुलना में कैसे हैं?

क्या पारंपरिक तम्बाकू नियंत्रण उपायों के जरिए सिगरेट पीने में 24% की कमी हासिल की जा सकती थी?

चलिए, सबसे पहले कीमत की बात करते हैं। सामान्य ज्ञान बताता है कि मांग की मूल्य प्रत्यास्थता औसतन लगभग –0.4 है, जिसमें से आधी के पीछे व्यापकता (यानि धूम्रपान छोड़ना) और बाकी आधी के पीछे खपत में कमी ज़िम्मेदार हैं। सैद्धांतिक रूप में, कीमत में लगभग 60% की वास्तविक वृद्धि से सिगरेट की मांग में औसतन वही 24% की कमी आ सकती थी जिसे जापान में पिछले दो वर्षों में देखा गया है।

वैश्विक आधार पर कर की दर को औसतन 56.2% मानते हुए, बाकी सभी चीजें अपरिवर्तित रखें तो कीमत में कुल 60% की वृद्धि के लिए कर में लगभग 107% की वृद्धि ज़रूरी होती। वास्तविकता के धरातल पर, तम्बाकू पर कर में 100% से अधिक की वृद्धि अधिकांश देशों में राजनीति की दृष्टि से व्यावहारिक नहीं है।

दुर्भाग्य से, अन्य कोई हस्तक्षेप इसके आस-पास भी नहीं थे। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, “कर बढ़ाकर तम्बाकू की कीमत बढ़ाना, तम्बाकू उपयोक्ताओं को तम्बाकू छोड़ देने के लिए प्रेरित करने का अकेला सबसे असरदार तरीका है।” साथ ही, कई तम्बाकू नियंत्रण उपायों के अमल में एकरूपता नहीं है। जैसा कि वैश्विक तम्बाकू महामारी 2017 की डब्ल्यूएचओ रिपोर्ट बताती है, “लगभग दो-तिहाई देशों (194 में से 121) – जहां दुनिया की 63% जनसंख्या बसती है – ने उपलब्धि के सर्वोच्च स्तर पर कम-से-कम एक एमपॉवर (MPOWER) उपाय शुरू किया है।” केवल एक देश ने सर्वोच्च स्तर पर सभी नीतियों पर अमल किया है, और 73 देशों ने एक पर भी नहीं।

यहां से कहां?

इसी पीढ़ी में धूम्रपान ख़त्म करने – और दहनशील सिगरेट को ख़त्म करने – की ओर जाने वाला मार्ग आगे की कठिन यात्रा दर्शाता है। हमारा आकलन है कि तम्बाकू उद्योग का संयुक्त राजस्व लगभग 800 अरब डॉलर प्रति वर्ष है। यह उद्योग हर वर्ष पचास खरब सिगरेट बेचता है, जिसमें ग़ैरकानूनी व्यापार और स्थानीय रूप से निर्मित दहनशील तम्बाकू उत्पाद, जैसे भारत में बनने वाली बीड़ियां, शामिल नहीं हैं। यह उद्योग सरकारों को लगभग 4 खरब डॉलर का कर राजस्व प्रदान करता है। एक करोड़ से अधिक किसान, और लाखों-करोड़ों फ़ैक्टरी कर्मी, वितरक, और फुटकर विक्रेता इसकी आपूर्ति शृंखला में शामिल हैं। वैश्विक तम्बाकू उद्योग और निकोटीन परितंत्र भीमकाय हैं।

फाउंडेशन का मानना है कि नवाचार और उपभोक्ता-संचालित मांग नीतिगत नुस्खों के अलावा समाधान का हिस्सा हैं। रिकॉर्ड दर्शाता है कि नीतिगत रणनीतियों पर अमल मात्र से सिगरेट पीने में उस स्तर और गति का घटाव हासिल नहीं हो रहा है जैसा जापान में देखने को मिल रहा है। फाउंडेशन का मानना है कि धूम्रपान-मुक्त दुनिया हासिल करने की दिशा में बढ़ने के लिए सभी बलों को एक साथ लाने का यही सही समय है।

वर्डप्रेस ऐप्लायंस - संचालक टर्नकी लिनक्स

Powered by