वयस्क धूम्रपान समाप्त करना कई संधारणीय विकास के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए आवश्यक है - धूम्रपान-मुक्त दुनिया फाउंडेशन

वयस्क धूम्रपान को समाप्त करना कई संधारणीय विकास के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए महत्वपूर्ण है

असंचारी रोगों से संबंधित संयुक्त राष्ट्र संघ संधारणीय विकास के लक्ष्यों (एसडीजी) में प्रगति के लिए वयस्क धूम्रपान समाप्त करने की दिशा में संगठित प्रयास आवश्यक है। धूम्रपान-मुक्त दुनिया फाउंडेशन (जिसे एतद्पश्चात “फ़ाउंडेशन” कहा गया है) इस पीढ़ी में धूम्रपान का ख़ात्मा करके वैश्विक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के कार्य की गति बढ़ाने को तैयार है।

फ़ाउंडेशन का मानना है कि एसडीजी हमारी दुनिया को बेहतर बनाने वाला एक विचारशील और मजबूत ढांचा प्रदान करते हैं। परिणामस्वरूप, हमने यह सुनिश्चित करने के लिए एसडीजी पर चिंतन किया है कि हमारा कार्य अंतरराष्ट्रीय विकास समुदाय के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर संचालित हो और वह संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा सोचे गए उज्ज्वल भविष्य की दिशा में योगदान देता हो। ऐसा करने के लिए, हमने हमारी हर प्रधान रणनीति की विस्तृत समीक्षा की – स्वास्थ्य, विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी(एचएसटी), कृषि एवं आजीविकाएं (एजी-एल), और उद्योग रूपांतरण (आईटी) और इस बात की मैपिंग की कि वे किस प्रकार एसडीजी को प्रतिच्छेदित करती हैं। फ़ाउंडेशन, लिंग सिद्धांतों को इस प्रकार प्रचालन में लाता है कि सामाजिक लिंग-विशिष्ट प्रभाव और जैविक लिंग-विशिष्ट आंकड़े एसडीजी 5: “लैंगिक समानता प्राप्त करें और सभी महिलाओं व लड़कियों का सशक्तीकरण करें” के अनुसरण में उसकी पहलों में एकीकृत होते हैं।

फ़ाउंडेशन में हमारे कार्य के लिए सर्वाधिक प्रासंगिक एसडीजी हैएसडीजी 3: “किसी भी आयु के समस्त लोगों के लिए स्वस्थ जीवन सुनिश्चित करें और कुशलक्षेम को बढ़ावा दें।” इस लक्ष्य को उन अंतर्निहित लक्ष्यों से समर्थन मिलता है जो विशिष्ट रूप से विश्व स्वास्थ्य संगठन तम्बाकू नियंत्रण पर फ्रेमवर्क सम्मलेन (लक्ष्य 3.a), जिसे वर्तमान तम्बाकू उपयोग की व्यापकता (संकेतक 3.a.1) से मापा जाता है; असंचारी रोगों के कारण होने वाली समय-पूर्व मरणशीलता में कमी (लक्ष्य 3.4), जिसे कई धूम्रपान-संबंधी रोगों की व्यापकता (संकेतक 3.4.1) द्वारा मापा जाता है; और शोध क्षमता को, विशेष रूप से विकासशील देशों में, मजबूत बनाना (लक्ष्य 3.d) के कार्यान्वयन को बढ़ावा देते हैं। यह देखते हुए कि दुनिया में अभी-भी एक अरब से भी अधिक लोग धूम्रपान करते हैं और हर वर्ष धूम्रपान के कारण लगभग सत्तर लाख मौतें होती हैं, उक्त लक्ष्य अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। इन आंकड़ों को नाटकीय ढंग से घटाने और एसडीजी 3 को बढ़ावा देने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए, फ़ाउंडेशन का प्रारंभिक एचएसटी एजेंडा धूम्रपान निवारण और तम्बाकू-संबंधी हानि घटाव पर केंद्रित शोध को प्रेरित करने, नवाचार को बढ़ावा देने, और सहकार्यता में सहयोग देने की मांग करता है।

इसके अतिरिक्त, फ़ाउंडेशन का एचएसटी एजेंडा ऐसा एसडीजी 17: “कार्यान्वयन के साधनों को मजबूती दें तथा स्थायी विकास हेतु वैश्विक साझेदारी को पुनर्जीवित करें” को ध्यान में रखते हुए करने की मांग करता है, जिसे विकासशील देशों में शोध के संसाधनों एवं क्षमता का आकलन करने वाले लक्ष्यों एवं संकेतकों द्वारा मापा जाता है। इस तथ्य के साथ कि धूम्रपान करने वालों की एक बढ़ती संख्या निम्न- और मध्यम-आय देशों में केंद्रित है, हमारा एचएसटी एजेंडा ऐसे देशों के शोध के बुनियादी ढांचे एवं पाइपलाइन का निर्माण करने के कार्यक्रमों को विशेष महत्व देता है।

जैसे-जैसे फ़ाउंडेशन धूम्रपान-मुक्त दुनिया के अपने विज़न की दिशा में प्रगति करेगा, वैसे-वैसे तम्बाकू की मांग में गिरावट आती रहेगी। एजी-एल रणनीति का फ़ोकस इस गिरावट से किसानों और मलावी जैसी तम्बाकू पर निर्भर अर्थव्यवस्थाओं पर पड़ने वाले प्रभावों की गंभीरता को घटाने पर है। एसडीजी 2 और एसडीजी 8: क्रमशः “भूख ख़त्म करें, खाद्य सुरक्षा एवं बेहतर पोषण हासिल करें, और संधारणीय कृषि को बढ़ावा दें” और “निरंतर, समावेशी, और संधारणीय आर्थिक वृद्धि, सभी के लिए पूर्ण एवं उत्पादक रोज़गार और समुचित कार्य को बढ़ावा दें”, इस कार्य के साथ नज़दीकी से जुड़े हैं। ये लक्ष्य अंतर्निहित लक्ष्यों और संकेतकों से बंधे हुए हैं, जैसे लघुस्तरीय खाद्य उत्पादकों की औसत आय (संकेतक 2.3.2), कुपोषण की व्यापकता (संकेतक 2.2.2), और कृषि क्षेत्र तक पहुंचने वाली विकास सहायता तथा व्यापार-हेतु-सहायता (एड-फ़ॉर-ट्रेड) सहयोग का प्रवाह (संकेतक 2.a.2)। हमारी एजी-एल रणनीति का कार्य इस समझ पर आधारित है कि तम्बाकू की खेती, विशेष रूप से छोटी जोत के तम्बाकू किसानों के लिए, आर्थिक या पर्यावरणीय दृष्टि से संधारणीय होने से कोसों दूर है। इस विचार को ध्यान में रखते हुए, फ़ाउंडेशन छोटी जोत के तम्बाकू किसानों और कर्मियों के लिए वैकल्पिक, बेहतर भुगतान देने वाली, और अधिक संधारणीय आजीविकाओं की पहचान करने, उन्हें बढ़ावा देने, और उनका स्तर बढ़ाने का प्रयास करता है।

फ़ाउंडेशन में हमारा कार्य एसडीजी 9: “प्रत्यास्थ बुनियादी ढांचा बनाएं, समावेशी और संधारणीय औद्योगिकीकरण को बढ़ावा दें और नवाचार को बढ़ावा दें”, द्वारा भी सूचित होता है। तम्बाकू उद्योग और निकोटीन परितंत्र में प्रौद्योगिकीय व्यवधान काफ़ी पहले से चल रहा है। इसलिए, हमारा मानना है कि वैज्ञानिक शोध बढ़ाने का, और प्रौद्योगिकीय क्षमताओं का उन्नयन करने का यही सही समय है, विशेष रूप से विकासशील देशों में (लक्ष्य 9.5), क्योंकि अभूतपूर्व एवं नवाचारी प्रौद्योगिकियां केवल दहनशील सिगरेट में मिलने वाले उत्सर्जनों से संबंधित स्वास्थ्य जोख़िमों की तुलना में निकोटीन डिलीवरी से जुड़े स्वास्थ्य जोखिम घटा रही हैं। फ़ाउंडेशन धूम्रपान-मुक्त दुनिया की दिशा में संधारणीय बदलाव को प्रोत्साहित करने और दुनियाभर में घटी-हानि वाले निकोटीन डिलीवरी उत्पादों की उपभोक्ता-मांग को पूरा करने के लिए, एक बाज़ार-चालित पद्धति के उपयोग की कल्पना करता है। आंशिक रूप से हम यह कार्य, स्पष्ट और पारदर्शी मापों के माध्यम से रूपांतरण को संख्या रूप में मापते हुए, कंपनी के रूपांतरण और शेयरधारक मूल्य के बीच एक सीधा संबंध बनाकर, तम्बाकू रूपांतरण सूचकांक के माध्यम से करेंगे। हमारे विचार में, दुनियाभर में धूम्रपान की स्थिति यह दर्शाती है कि सार्वजनिक स्वास्थ्य में बहुतों ने डब्ल्यूएचओ एफसीटीसी अनुच्छेद 5.3 पर, और उसकी व्याख्या पर जो बल दिया है, वह पर्याप्त तेज़ी से धूम्रपान-मुक्त दुनिया हासिल करने में योगदान नहीं दे रहा है। फ़ाउंडेशन का मानना है कि उद्योग को रूपांतरण की ओर प्रभावित करने का उपयुक्त तरीका यह है कि उन्हें एसडीजी 17: “संधारणीय विकास के लिए कार्यान्वयन के साधनों को मजबूती दें तथा वैश्विक साझेदारी को पुनर्जीवित करें” के साथ सुसंगत साझेदारियों के माध्यम से परोक्ष रूप से प्रभावित करें।

अन्य संगठन सामान्य रूप से एसडीजी की दिशा में, और विशिष्ट रूप से असंचारी रोगों के विरुद्ध, हो रही प्रगति का सक्रिय ढंग से मूल्यांकन कर रहे हैं, और हम हमारी भूमिका निभाने को तत्पर हैं। हम आपको आमंत्रित करते हैं कि यहाँ आप हमसे जुड़ें, और गहराई तक जाएं, और हमारी एसडीजी मैपिंग के बारे में और जानें।

वर्डप्रेस ऐप्लायंस - संचालक टर्नकी लिनक्स

Powered by