संधारणीय विकास के लक्ष्य | धूम्रपान-मुक्त दुनिया फाउंडेशन

संधारणीय विकास के लक्ष्य

यह विश्लेषण संयुक्त राष्ट्र संघ के सतत विकास लक्ष्यों1 (यहाँ पर एसडीजी के रूप में संदर्भित) की तुलना में फाउंडेशन के काम को दर्शाने वाले चित्र में संबंधों को विस्तार से समझाता है। एसडीजी के लिए 2030 का एजेंडा लोगों और ग्रह के लिए शांति और समृद्धि के लिए एक साझा ब्लूप्रिंट प्रदान करता है। यह ब्लूप्रिंट उन उद्देश्यों और लक्ष्यों पर निर्दिष्ट है जो संधारणीय विकास के तीन आयामों – आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरण-संबंधी – को संतुलित करना चाहते हैं और अच्छी तरह से परिभाषित वैश्विक संकेतकों के एक सेट का उपयोग करके इसकी समीक्षा की गई है।2 फाउंडेशन का एसडीजी नक्शा और यह लेजेंड प्रासंगिक लक्ष्यों और उनके भीतर विशिष्ट लक्ष्यों और संबंधित संकेतकों की पहचान करते हैं जिन पर फाउंडेशन भौतिक प्रभाव डालना चाहता है।

धूम्रपान-मुक्त दुनिया फाउंडेशन का प्रयोजन तम्बाकू पैदा करने वाले किसानों और तम्बाकू पर निर्भर अर्थव्यवस्थाओं पर इस रूपांतरण के प्रभावों को कम करते हुए, इस पीढ़ी में धूम्रपान को समाप्त करके वैश्विक स्वास्थ्य में सुधार करना है। फाउंडेशन की रणनीतिक योजना को तीन प्रमुख पहलों द्वारा समर्थित किया गया है: स्वास्थ्य, विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी; कृषि और आजीविकाएँ; और उद्योग रूपांतरण। तीनों पहलें कई एसडीजी के साथ स्वाभाविक रूप से प्रतिच्छेद करती हैं। इस प्रकार से एसडीजी फाउंडेशन की प्रमुख पहलों की अनुकूलता और परस्पर निर्भरता का आकलन करने के लिए एक मूल्यवान ढांचा प्रदान करते हैं।

1 संयुक्त राष्ट्र संघ। संधारणीय विकास के लक्ष्य ज्ञान मंच। https://sustainabledevelopment.un.org/sdgs.

2 संयुक्त राष्ट्र संघ महासभा। महासभा द्वारा 6 जुलाई 2017 को पारित प्रस्ताव। प्रकाशित 10 जुलाई 2017। https://undocs.org/A/RES/71/313.

वर्डप्रेस ऐप्लायंस - संचालक टर्नकी लिनक्स

Powered by